जब पहली बार सील तोड़ी

0
Loading...

प्रेषक : संजीव …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम संजीव है और में एक बार फिर से आप सभी कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों के मज़े लेने वालो की सेवा में अपनी एक चुदाई की सच्ची घटना लेकर आया हूँ जिसमें मैंने अपनी एक गर्लफ्रेंड की बड़ी मस्त चुदाई के मज़े लिए। दोस्तों यह कहानी मेरी पहली बार सेक्स करने के बारे में है और उस समय में अपनी 10th क्लास के पेपर की तैयारी कर रहा था और वो जनवरी का महिना था इसलिए ठंड उन दिनों कुछ ज्यादा ही पड़ रही थी। में हर दिन जल्दी सुबह के समय अपनी एक ट्यूशन के लिए जाता था और हमारी उस क्लास में बहुत सारी लड़कियाँ भी पढ़ने आती थी। दोस्तों उन सभी लड़कियों में से एक लड़की का नाम प्रीति था, वो दिखने में बहुत सुंदर तो थी, लेकिन उसके वो गोरे एकदम गोलमटोल बूब्स हमारी उस क्लास और स्कूल में भी सबसे अच्छे थे और उस समय में भी पढ़ने वहीं जाने लगा था। दोस्तों मेरा शरीर भी बहुत अच्छा गठीला भी बहुत था इसलिए हर एक लड़की मेरे से आकर्षित हुआ करती थी और वैसे उस समय बहुत ही कम लड़के कसरत करने जाते थे इसलिए मेरा बदन सबसे अलग हटकर था और वैसे में पढ़ाई करने में भी अपने पूरी क्लास में टॉपर में से एक था।

दोस्तों वो लड़की मेरी तरफ बहुत ज्यादा हर बार मुड़कर देखा करती थी और वैसे में भी उसके साथ दोस्ती करना चाहता था, लेकिन में आगे होकर उसको यह बात बोल नहीं सकता था इसलिए में बहुत दिनों तक चुप ही रहा। अब वो हर कभी मुझे देखकर मुस्कुराने पलट पलटकर देखने और मुझसे बातें करने के कोई ना कोई मौके देखने लगी थी और में उसके मन की उस बात को समझकर खुश होने लगा था, इसलिए अब कभी कभी हमारे बीच बातें हंसी मजाक भी होना शुरू हो गया था। फिर एक दिन मेरे सर ने तीन तीन छात्रों के ग्रुप बना दिए। दोस्तों क्योंकि में अपने सर का सबसे अच्छा प्यारा छात्र था, इसलिए मेरे सर ने मेरे उस ग्रुप में दोनों लड़कियों को डाल दिया। अब हम तीनों एक साथ बैठकर पढ़ाई से ज्यादा बातें हंसी करने लगे थे। उसी में एक लड़की का नाम सुमन था। दोस्तों शायद प्रीति ने सुमन को मेरे बारे में कुछ बोल दिया था इसलिए सुमन हमेशा प्रीति की बहुत तारीफ और उसी के बारे में मेरे सामने ज्यादा बातें करती थी। अब सही मौका मिलने पर प्रीति और में एक साथ बैठकर बातें मजाक भी करते थे, इसलिए हमारी दोस्ती धीरे धीरे गहरी होकर प्यार में बदलती जा रही थी।

एक बार मेरा हाथ उसके हाथ से छू गया और उसने नाराज ना होकर थोड़ा सा मुस्कुरा दिया, लेकिन में अचानक हुई इस घटना की वजह से बहुत डर रहा था, लेकिन दोस्तों उसकी तरफ से कोई भी विरोध ना देखकर मेरी हिम्मत अब धीरे धीरे बढ़ने लगी थी। फिर धीरे धीरे मेरे पैर भी उसके पैर को छूने लगे थे, लेकिन अब भी उसकी तरफ से विरोध ना पाकर में अब जानबूझ कर उसके साथ वो सभी हरकते करने लगा और वो भी मेरे साथ मज़े मस्ती करने लगी थी जिसकी वजह से अब हर दिन मेरा लंड खड़ा हो जाता था। फिर एक दिन ट्यूशन में हम दोनों सबसे पहले पहुंच गये और एक दूसरे को अकेले में पाकर मन ही मन खुश होकर साथ में बैठकर बातें करने लगे। अब उसने मुझसे कहा कि तुम हर कभी मेरे पैर पर अपने पैर को क्यों लगाते हो, में बहुत अच्छी तरह से जानती हूँ कि तुम ऐसा जानबूझ कर करते हो और तुम्हारे मन में क्या चल रहा है उसके बारे में भी में बहुत अच्छी तरह से समझती हूँ। दोस्तों में उसके मुहं से इतना सब सुनकर बहुत डर गया और चिंता की वजह से मेरे माथे से पसीना बहने लगा था। अब वो मेरी उस हालत को देखकर एकदम से हंसने लगी और फिर उसी समय वो ज़ोर से हंसते हुए मुझसे कहने लगी कि कोई बात नहीं, मुझे तुम्हारा यह सब करना अच्छा लगता है।

दोस्तों बस फिर क्या था? मैंने उसको खुलकर कह दिया कि मुझे भी तुम्हारे साथ मस्ती करना बहुत अच्छा लगता है और तुम भी मुझे बहुत अच्छी लगती हो। अब वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर दोबारा पागल की तरह हंसने लगी थी और वो मुझसे बोली कि धीरे बोलो वरना कोई तीसरा भी यह बात सुन लेगा। फिर मैंने खुश होकर कहा कि हाँ तुम आज सबको यह बात सुनने दो और तभी सुमन भी आ गई। फिर हम साथ में बैठकर पढ़ाई करने लगे और अब मेरा वो डर भी कुछ कम हो गया था। फिर मैंने उसी क्लास में मौका देखकर तुरंत ही उसका एक हाथ पकड़ लिया, लेकिन उसने मुझसे कुछ नहीं बोला और उसी समय मैंने उसको कहा कि तुम हर दिन ऐसे ही जल्दी आ जाया करो। अब वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर ज़ोर से हंसने लगी और फिर बिना कुछ बोले वो अपनी पढ़ाई करने लगी और कुछ घंटे हमारे साथ पढ़ने के बाद वो उस दिन बहुत खुश होकर अपने घर चली भी गयी। दोस्तों हमारी उस पहली घटना के बाद में भी मन ही मन बहुत खुश था, क्योंकि अब मुझे उसको पाने का सही समय पास आता नजर आने लगा था और में पूरी रात उसके विचारों को लिए सोचता ही रहा।

फिर में दूसरे दिन हमारी अगली क्लास में सबसे पहले चला गया और थोड़ी देर के बाद वो भी आ गयी। अब में उसको देखकर बहुत खुश था और उसके आते ही मैंने उसका एक हाथ पकड़ लिया और छूकर महसूस किया कि वो बहुत ही मुलायम था। अब उसको मैंने अपनी तरफ खींच लिया, उसने तभी मेरे हाथ को अच्छी तरह से कसकर पकड़ लिया और थोड़ी देर तक हम दोनों ऐसे ही बातें करते रहे। अब आगे बढ़कर उसने मेरे गाल पर पहला वो किस किया, जिसके बाद मेरी ख़ुशी और हिम्मत अब इतनी बढ़ चुकी थी कि में अब उसके साथ कुछ भी करने से पीछे नहीं हटने वाला था। अब में भी उसके चेहरे को अपने दोनों हाथों से पकड़कर, उसके नरम होंठो को चूसने लगा था और ऐसा करने में हम दोनों को बड़ा मज़ा आ रहा था और हमारा वो चूमना पांच मिनट चला। फिर उसके बाद सभी के आ जाने के बाद हम पढ़ाई करने लगे थे। दोस्तों अब हम दोनों इतना पास आ चुके थे कि हम दोनों अब हर दिन सबसे पहले पहुंचकर ऐसा ही करने लगे थे और अब हम सेक्स की बातें भी करने लगे थे, क्योंकि ऐसा करने में हम दोनों को बहुत मज़ा आने लगा था। फिर एक दिन उससे मुझसे क्लास में बोला कि आज मेरे घर पर कोई नहीं है मेरे घर वाले किसी काम से बाहर जा रहे है और वो मुझसे देर रात तक वापस आने के लिए कहकर जा चुके होंगे इसलिए में आज पूरा दिन अपने घर में अकेली ही रहूंगी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Loading...

दोस्तों फिर क्या था? में उसका वो इशारा और इतना अच्छा मौका पाकर मन ही मन बहुत खुश था, क्योंकि अब मुझे उसके साथ चूमने बाहों में भरने से कुछ ज्यादा ही करने का मौका जो मिल गया था। अब में मन ही मन उसके साथ चुदाई करने में विचार बनाकर सपने देखने लगा था। दोस्तों वैसे हम दोनों ने ही अभी तक पहले कभी सेक्स नहीं किया था, लेकिन हमारे मन में उस काम को एक बार जरुर करने की इच्छा थी। फिर में उसके बताए ठीक समय पर उसके घर चला गया और मैंने जाकर देखा कि वो वहां पर मेरा इंतज़ार कर रही थी और बहुत ही सुंदर हॉट सेक्सी लग रही थी। फिर घर के अंदर जाते ही मैंने तुरंत दरवाजा बंद करके उसको अपनी बाहों में भरकर चूमना प्यार करना शुरू कर दिया, मेरे उस काम को करने में उसने भी जोश में आकर मेरा पूरा साथ देकर मेरे मन को खुश कर दिया, इसलिए में उसके साथ अब पहले से ज्यादा खुश होकर बिना किसी डर के उसको चूमने के साथ ही अब कपड़ो के ऊपर से उसके उभरे हुए गोल बूब्स जो अभी अभी जवान होकर अपना आकार बदलने लगे थे, में उसके दोनों बूब्स को भी बारी बारी से दबा सहला रहा था।

दोस्तों करीब दस मिनट तक एक दूसरे से लिपटकर पागल हो जाने के बाद हम दोनों का जोश इतना बढ़ गया कि जोश में अपने होश खोकर मैंने बिना देर किए उसके सारे कपड़े एक एक करके उतार दिए। दोस्तों उसको जब पहली बार मैंने बिना कपड़ो के एकदम नंगा देखा तो में उसकी सुंदरता को बहुत देर तक चकित होकर देखा ही रहा, क्योंकि वो अब बहुत ही सुंदर नजर आने के साथ साथ कामदेवी की तरह लग रही थी। फिर मैंने तुरंत ही अपने भी कपड़े उतार दिए और मुझे अब अपने सामने उसका वो गोरा चिकना बदन छोटे आकार के उठे हुए बूब्स और नीचे की तरफ उसकी गोरी गदराई हुई जांघो के बीच में एकदम चिकनी कुंवारी चूत जो मुझे लगातार अपनी तरफ आकर्षित करने लगी थी। दोस्तों में उसका वो सेक्स बदन देखकर पागल हुआ जा रहा था, इसलिए मैंने उसके बूब्स को सहलाना शुरू कर दिया था और मौका देखकर में उसकी चूत को भी अपने एक हाथ से सहलाने लगा था। अब मेरे उसके साथ यह सब करने की वजह से उसके मुहं से सिसकियों की आवाज़ निकलने लगी थी और उसी मैंने उसके एक हाथ में मैंने अपना लंड दे दिया जिसको वो भी सहलाने लगी थी।

फिर कुछ देर के बाद मैंने उसके पूरे बदन को चूमना शुरू किया। में धीरे धीरे उसकी चूत के पास आकर अब वहां पर भी चूमने प्यार करने लगा था और वो जोश मस्ती में सिसकियाँ लेने लगी थी। अब मैंने उसका वो जोश देखकर अब उसको अपना लंड चूसने के लिए कहा और फिर वो तुरंत ही पागलों की तरह मेरे लंड को चूसने लगी थी। फिर कुछ देर के बाद हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये और उसने मेरा पूरा लंड अपने मुहं में भरकर उसको अंदर बाहर करके चूसा बड़ा मज़ा लिया और मैंने भी उसकी चूत को चूसने चाटने में कोई भी कसर नहीं छोड़ी। में अपनी जीभ से उसकी कुंवारी रसभरी चूत के दाने को चूसने सहलाने लगा था और वो जोश में आकर मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी। दोस्तों कुछ देर यह सब करने के बाद मैंने अपना लंड उसकी गीली चुदाई के लिए तैयार चूत के होंठो पर रख दिया और फिर में उसको अंदर की तरफ धक्का देकर डालने लगा, लेकिन कुंवारी और आकार में छोटी होने की वजह से लंड उसकी चूत के अंदर नहीं जा रहा था और में लगातार ज़ोर लगाता ही गया। अब वो दर्द की वजह से बहुत तेजी से चिल्लाने के साथ साथ छटपटाने लगी थी और में बिना उसके दर्द को देखे तेज तेज धक्के देता रहा।

अब मैंने लगातार उसकी चूत को अपने लंड के 15-20 तेज धक्के दिए जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड उसकी छोटी चूत के अंदर और उसकी चूत से बहुत सारा खून बाहर आने लगा था। अब में उसका दर्द खून देखकर रुक चुका था और अब वो दर्द की वजह से रोने लगी थी और फिर मैंने उसका वो खून साफ किया। फिर मैंने देखा कि मेरे लंड पर भी उसकी चूत का बहुत सारा खून लगा हुआ था, मैंने उसको भी साफ किया और अब मैंने उसको अपनी गोद में उठा लिया और में उसको सीधा बाथरूम में ले गया जहाँ पर हम दोनों ने एक साथ नहाने का मज़ा लिया।

दोस्तों मैंने देखा कि वो तब भी रो रही थी और उसकी आँखों से लगातार आंसू आ रहे थे क्योंकि पहली चुदाई की वजह से उसकी चूत फट चुकी थी और उसको अपनी पहली चुदाई की वजह से बहुत तेज दर्द हो रहा था। अब वो मुझसे कहने लगी थी, अगर तुमने दोबारा मुझे चोदना शुरू किया तो में उस दर्द की वजह से मर ही जाउंगी, क्योंकि मुझे अभी भी बड़ा तेज दर्द हो रहा है। फिर कुछ देर नहाने के बाद हम दोनों बाथरूम से बाहर आ गए और मैंने उसको दर्द कम होने के लिए दवाई लाकर दे दी, जिसको उसने तुरंत खा लिया। अब हम दोनों वैसे ही बिना कपड़ो के एक दूसरे से लिपटकर बातें करने लगे।

Loading...

फिर कुछ देर बाद में उसके बूब्स चूत से खेलने लगा और उसने मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर हिलाना शुरू किया जिसकी वजह से हम दोनों दोबारा गरम हो गए और करीब आधे घंटे के बाद मैंने उसको दोबारा चुदाई के लिए तैयार किया में उससे बोला कि जब तुम्हे दर्द हो तुम मुझे बता देना में अपने लंड को बाहर निकाल लूँगा, लेकिन यह सब पहली बार होने की वजह से दर्द होना स्वभाविक है, इसलिए तुम्हे थोड़ा सा दर्द सहन भी करना होगा, ज्यादा होने पर ही मुझे कहना। अब वो मेरी उस बात को पूरी सुनकर अच्छी तरह समझ गई और वैसे तो उसको अभी अपनी चूत की खुलजी को एक बार जमकर चुदाई करवाकर अपनी आग को शांत करना था, इसलिए वो तैयार हो गई। दोस्तों एक बार और मैंने उसको नीचे लेटाकर उसकी चूत में अपने लंड को एक बड़ी तेज धक्के के साथ पूरा अंदर डालकर उसके दर्द की तरफ बिल्कुल भी ध्यान ना देकर उसके साथ अपनी और उसकी भी पहली चुदाई करके बड़े मस्त सेक्स के मज़े लिए जिसमें कुछ देर बाद उसने भी मेरा पूरा पूरा साथ दिया। फिर अपने जोश को उसकी चूत के अंदर निकाल देने के बाद मैंने ठंडा होकर अपने लंड को उसकी चूत से बाहर किया और उसी पल उसकी चूत से मेरे वीर्य के साथ उसकी चूत का खून भी बाहर आ गया।

अब में कुछ देर उसके पास लेटा रहा और उसके बाद हम दोनों ने कपड़े पहने और में उसके साथ कुछ और रुकने के बाद बड़ा खुश होकर अपने घर चला आया और में पूरी रात बस उसके साथ उस चुदाई के बारे में सोच सोचकर खुश होता रहा। दोस्तों अगले दिन में समय से पहले अपनी ट्यूशन के लिए पहुंच गया, लेकिन बहुत देर इंतजार करने के बाद भी वो नहीं आई। फिर मैंने सुमन से कहा कि तुम प्रीति के घर पर फोन से पता करो कि वो आज क्यों नहीं आई? उसकी तबियत कहीं खराब तो नहीं है? अब उसने मेरी तरफ हंसकर देखते हुए कहा कि जब तुम दोनों एक साथ रहोगे तो एक दो दिन की छुट्टियाँ तो उसको लेनी ही पड़ेगी ना और उसने मुझसे कहा कि मुझे सब पता है कि तुम दोनों ने कल पूरा दिन क्या क्या किया है? और वो मुझसे यह बात कहकर ज़ोर से हंसने लगी। दोस्तों में भी तीन चार दिन जब तक वो नहीं आई तब तक सही से पढ़ाई नहीं कर सका और उसके आ जाने के बाद मेरा चेहरा अब खुशी से चमक गया और वो भी मुझसे मिलकर बड़ी खुश नजर आ रही थी। दोस्तों उसके बाद जब भी हमे कोई ऐसा ही मुका मिलता तो हम दोनों जमकर सेक्स करते, बहुत मज़े लेते और अब हर बार वो मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी थी। उसको अपनी पहली चुदाई के बाद से वैसा तेज दर्द अब नहीं होता था।

फिर एक बार उसकी चुदाई करते समय मैंने धक्के देते हुए उसको कहा कि तुमने ही मुझे सेक्स करना सिखाया है और तुमने पहली बार मेरे साथ सेक्स किया था, तब तुमको यह सब कैसे करते है और यह सभी बातें किससे पता चली? फिर उसने कहा कि सुमन ने मुझे यह सब बताया था और धीरे धीरे उसने मुझे बताया कि सुमन ने मुझसे कहा था कि यह सब ऐसे करते है और चुदाई करवाने के बाद बहुत मस्त मज़े आते है। दोस्तों अब सुमन भी मुझसे बहुत खुलकर बातें करने लगी थी और धीरे धीरे वो मेरे कुछ ज्यादा पास आने लगी थी और मुझे बाद में पता चला कि उसका एक बॉयफ्रेंड था जो अब अपनी आगे की पढ़ाई करने के लिए आगरा चला गया था। अब में सभी बातें बहुत अच्छी तरह से समझ गया था कि वो भी मेरे साथ सेक्स करना चाहती है, इसलिए वो मेरे पास आती जा रही है और में भी जानबूझ कर उसके पास आने लगा था, क्योंकि अब मुझे पूरी उम्मीद थी कि में बड़े आराम से सुमन की भी चुदाई जरुर कर सकता हूँ ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


new hindi sexy storeyhind sexi storynew hindi sexy story comhinde sax khanihindi sex kahinibaji ne apna doodh pilayabaji ne apna doodh pilayaall hindi sexy kahanisexy story in hundihendi sexy storysexy story com hindisex hind storehinde sex storehindi sex story sexhindi sexy kahani in hindi fonthindi sex historysex new story in hindiindian sexy stories hindihinde six storysexy adult hindi storysex story hindusexy story all hindisexy sotory hindisex kahani hindi fontkamukta comnind ki goli dekar chodahindi sex khaneyasexy story hindi msexistoridadi nani ki chudaihindi sexy storyhindi sexy setorehindisex storyssexy free hindi storysex st hindihindi story for sexstory in hindi for sexhindi new sexi storyhinde sax storysaxy hindi storyswww hindi sex store comsex khani audiokamuka storynew hindi sex storysex story hinduhindhi sexy kahanichut fadne ki kahaniall hindi sexy storysex story in hindi newhindi sex story audio comhindi sexy kahani in hindi fontsext stories in hindihindi sexy story adiohhindi sexnew hindi sexy storiehindi history sexankita ko chodamami ne muth marinew hindi sexy storysexy story hundihindi sexy sortysexstori hindihindi sexy stores in hindihindi sex stories read onlinesex stores hindi comstore hindi sexfree sex stories in hindisaxy hindi storyshinde sexy sotrysexy storishsexi hindi kathahindi font sex storieschodvani maja