खुशबू के जिस्म को गुलाम बनाया

0
Loading...

प्रेषक : अमन …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमन है और में राँची (झारखंड) से हूँ। में पिछले कुछ सालों से कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ और मुझे ऐसा करना बहुत अच्छा लगता है। मैंने अब तक बहुत सारी कहानियाँ पढ़कर बहुत मज़े किए और आज में आप सभी लोगों को अपनी एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ जो कुछ समय पहले मेरे साथ घटित हुई, जिसमे मैंने मेरी एक दोस्त जो कि सिर्फ मेरी एक अच्छी दोस्त थी कैसे मैंने उसको अपनी तरफ करके चोदा में वो सब कुछ आप लोगों को आज पूरा विस्तार से बताने जा रहा हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी आप सभी को जरुर पसंद आएगी। दोस्तों में उस समय सिर्फ 21 साल का था और दोस्तों मेरा अपना घर राँची में ही है और में वहीं पर एक अच्छे से कॉलेज में अपनी पढ़ाई करता था मेरे कुछ दोस्त हॉस्टल में रहते थे। तो बाद में उन लोगों ने एक तीन बेडरूम वाला फ्लेट किराए पर ले लिया था जिसमें मैंने भी उस फ्लेट का किराया देने में उनकी बहुत बार मदद की थी। मेरे दो दोस्त एक एक रूम में और एक रूम मैंने अपने लिए रखा हुआ था, अपने मज़े मस्ती करने के लिए मतलब अपनी गर्लफ्रेंड को वहां पर ले जाकर मज़े करने के लिए।

दोस्तों उस समय मेरी 3-4 गर्लफ्रेंड थी तो में उनको जब भी मौका मिलता वहां पर ले जाकर चोदता था। मेरे एक दोस्त की मोबाइल की दुकान थी और में अक्सर वहाँ जाता था। एक दिन में वहां पर बैठा हुआ था तो एक लड़की मोबाइल रीचार्ज करवाने आई, वो लड़की दिखने में ज्यादा सुंदर नहीं थी, लेकिन ठीक ठाक थी और उसके बड़े बड़े बूब्स मोटी गांड भरा हुआ शरीर बस उसको देखकर ही मेरा मन किया कि में उसके बूब्स को पकड़कर पी जाऊँ और उनको निचोड़ दूँ। फिर उस लड़की ने मेरे दोस्त को अपना मोबाईल नंबर दे दिया और उससे वो नंबर रीचार्ज करने के लिए बोला और मेरे दोस्त ने उसका मोबाईल नंबर रीचार्ज कर दिया।

दोस्तों उसका मोबाईल नंबर थोड़ा सा आसान था तो मैंने उसके बताते ही तुरंत उस नंबर को याद कर लिया और जब वो अपना काम खत्म करके वहां से गयी तो मैंने अपने मोबाईल में उसका नंबर लिखकर रख लिया और उसके दो दिन बाद मैंने उसको एक मैसेज किया तो कुछ देर बाद मुझे उसकी तरफ से भी एक मैसेज आ गया जिसमे लिखा हुआ था कि तुम कौन हो? दोस्तों मैंने जानबूझ कर अपनी तरफ से उसको एक और मैसेज करके कहा कि मेरा नाम अमन है और आप मुझे माफ़ करे यह मैसेज मुझसे हुई गलती की वजह से आपके पास चला गया था, प्लीज आप इस पर ज्यादा ध्यान ना दें। फिर थोड़ी देर में मेरे पास उसकी तरफ से एक और मैसेज आ गया जिसमें लिखा हुआ था कि वो सब तो ठीक है, लेकिन अब आप मुझे यह तो बताओ कि आप कहाँ के रहने वाले हो? तो मैंने भी उसको अपनी तरफ से दोबारा एक मैसेज लिखकर भेज दिया कि में राँची का रहने वाला हूँ। फिर उसने मुझसे पूछा कि आप क्या करते हो? और फिर हमारी ऐसे ही मैसेज से बातें होने लगी थी और तब मुझे पता चला कि वो राँची के एक कॉलेज में पढ़ती है और वो इस समय लड़कियों के एक हॉस्टल में रहती है और उसका नाम खुशबू है। फिर ऐसे ही कुछ दिन तक हमारी मैसेज से बात होती रही और फिर मैंने एक दिन उससे पूछा कि क्या में तुम्हे कॉल कर सकता हूँ? तो उसने मुझसे बोला कि हाँ ठीक है और मैंने उसको कॉल किया तो मुझे उसकी आवाज़ सुनने में बहुत अच्छी लगी थी। मुझे उसको सुनकर ऐसा लगा कि वो एक बहुत शरीफ लड़की है और थोड़ी शांत भी है। हमारी ऐसे ही कुछ दिन तक लगातार बात होती रही और वो अब मेरी बहुत अच्छी दोस्त बन गई थी। मुझे भी अब उससे बात करना बहुत अच्छा लगने लगा था और हम दोनों रात रात भर फोन पर बातें किया करते थे और कुछ दिन गुजर जाने के बाद मैंने एक दिन उसको मिलने के लिए पूछा तो वो मान गई। फिर हम दोनों उसकी बताई हुई जगह पर मिले और मैंने उससे बहुत अच्छी तरह से बात की हम कुछ देर साथ में घूमे और फिर मैंने अपनी बाईक से उसको उसके हॉस्टल तक ले जाकर छोड़ दिया, वो मेरे साथ बाहर घूमकर बहुत खुश नजर आ रही थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

एक दिन अचानक मैंने उससे पूछा कि तुम्हारा क्या कोई बॉयफ्रेंड है? तो उसने मुझसे बोला कि हाँ कुछ समय पहले था, लेकिन अब नहीं और अब वो कोई बॉयफ्रेंड बनाना भी नहीं चाहती है। फिर मैंने उससे पूछा कि तुम ऐसा क्यों करना चाहती हो? तो उसने मुझसे बोला कि बस ऐसे ही, लड़के जब तक एक दोस्त होते है तब तक वो बहुत अच्छे होते है, लेकिन जैसे ही वो बॉयफ्रेंड बनते है तो उसके बाद उनको सिर्फ एक ही चीज़ से मतलब होता है और वो बस उसी पर ज्यादा ध्यान देते है। दोस्तों में उसकी दो मतलब वाली बात को बहुत अच्छी तरह से समझ गया था कि इसके बॉयफ्रेंड ने इसको चोदकर अब अकेला छोड़ दिया है, इसलिए यह एसी बातें कर रही है। फिर मैंने भी मन ही मन सोचा कि में भी अपनी तरफ से कोशिश करता हूँ शायद मुझे भी इसको एक बार चोदने का मौका मिल जाए। फिर मैंने भी धीरे धीरे दो मतलब की बातें करना शुरू कर दिया था और वो मेरी सभी बातों का मतलब समझती थी, लेकिन उसने अपनी तरफ से मेरी बातों में कोई खास रूचि नहीं दिखाई।

एक दिन मैंने उसको सच सच अपने मन की बात कही तो उसने मुझे जवाब दिया कि में बहुत अच्छी तरह से जानती हूँ कि तुम मुझे क्यों अपने मन की बात बता रहे हो? लेकिन में तुम्हे एक बात बता दूँ कि में तुमसे दोस्ती के अलावा और कोई भी रिश्ते को आगे बढ़ाने नहीं दूंगी इसके अलावा तुम्हे मुझसे जो कुछ चाहिए में वो सब दूंगी। दोस्तों में अब बहुत अच्छी तरह से समझ गया था कि वो जान गई है कि में उससे अब क्या चाहता हूँ? तो मैंने तुरंत उसको बोल दिया कि जो मुझे चाहिए क्या वो तुम दोगी? तो उसने बोला कि हाँ, लेकिन एक हद तक। फिर हमारे बीच सेक्सी बातें शुरू हुई और धीरे धीरे मुझे पता चला कि वो तो एकदम चुदक्कड़ लड़की है और वो खुलकर अपनी बातों में मुझसे लंड, चूत, भोसड़ा जैसे शब्द काम में लेने लगी थी और फिर मैंने उससे पूछा कि तुम क्या मेरे साथ रूम पर चलोगी? पहले तो उसने थोड़ा सा नाटक किया, लेकिन फिर मेरे कहने पर मान गई और वो मुझसे कहने लगी कि मेरी एक शर्त है, में चुदाई नहीं करूँगी और उसके अलावा तुम जो चाहो कर लो। फिर मैंने उसको बोला कि यह क्या बात हुई? उसने कहा कि अगर तुम मेरे अच्छे दोस्त हो तो प्लीज़ मेरी बात मान लो। फिर में तुम्हे हमेशा ओरल सेक्स का मज़ा दूँगी। फिर मैंने बोला कि चलो ठीक है और उसके अगले दिन मैंने उसको उसके हॉस्टल से अपने साथ ले लिया और फिर में उसे अपने दोस्त के रूम पर ले गया जहाँ पर एक रूम मेरा भी था। हम उस रूम में चले गये और हमने बैठकर पहले थोड़ी देर इधर उधर की बातें की और फिर अचानक मैंने उसको अपने ऊपर खींच लिया, जिसकी वजह से उसके बड़े बड़े बूब्स मेरी छाती से टकरा गए और मुझे अहसास हुआ कि उसके बहुत बड़े आकर के एकदम मुलायम है और फिर मैंने उसके कान में उससे पूछा कि तेरे बूब्स का आकार क्या है? तो वो बोली कि 36 और उसके मुहं से इतना सुनते ही मैंने झट से बूब्स को पकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और निचोड़ने लगा, जिसकी वजह से वो सिसकियाँ लेने लगी। फिर मैंने जल्दी से उसका कुर्ता उतार दिया और अब वो मेरे सामने ब्रा में थी और उसको मुझसे थोड़ी सी शरम भी आ रही थी, इसलिए उसने अपनी दोनों आखें बंद कर ली थी, लेकिन फिर भी मैंने उसको अपने ऊपर खींचा और उसकी ब्रा को खोल दिया।

Loading...

अब उसके बड़े आकार के बूब्स झूलते हुए ठीक मेरे सामने थे, वो बहुत मस्त गोल गोल और उस पर हल्के भूरे रंग के छोटे से निप्पल थे। मैंने जैसे ही उसके निप्पल को अपने मुहं में लिया तो वो तड़प गई और अब वो मुझसे बोली कि प्लीज़ चूसो इन्हें तुम जितना चाहो दबा लो, क्योंकि इनको चूसने से मुझे बहुत गुदगुदी होती है प्लीज और उस वजह से में अपना कंट्रोल खो देती हूँ। तुमने मुझसे पहले ही वादा किया था कि तुम चोदोगे नहीं, इसलिए सिर्फ़ दबाओ तुम्हारा जितना मन करे उतना दबाओ। फिर मैंने उसकी एक नहीं सुनी और बूब्स को लगातार चूसता रहा, जिससे वो सिसकियाँ लेते हुई तड़पने लगी। फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी गांड पर लगाया और दबाने लगा, जिसकी वजह से वो अब धीरे धीरे ढीली पड़ने गयी थी। फिर मैंने उसको लेटा दिया और उसका पजामा खोलने लगा। पजामा खुलते ही मुझे उसकी काली कलर की पेंटी दिखी, जिसमे वो बहुत मस्त दिख रही थी और बड़े बड़े एकदम आज़ाद बूब्स गोरा गदराया हुआ बदन और वो काली कलर की पेंटी। फिर मैंने जैसे ही उसकी वो पेंटी नीचे उतारी तो उसकी बिना बालों वाली चूत मुझे दिखी। उसने अपनी चूत के बालों को पहले ही साफ किया था, एकदम गोरी उभरी हुई चिकनी और गीली चूत को देखकर में तो अपना कंट्रोल ही खो बैठा और वैसे भी मुझे ऐसी ही सेक्सी लड़कियाँ ज्यादा पसंद है। मैंने उसकी पेंटी को उतार दिया और फिर मैंने उसकी चूत को चूमा। फिर उसने मुझसे कहा कि तुम सिर्फ़ इसको चाटना मत बल्कि ज़ोर ज़ोर से खींचकर चूसना, क्योंकि मुझे बहुत मज़ा आता है जब कोई भी मेरी चूत को खींच खींचकर चूसता है। अब मैंने अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटना और होंठो से चूसना शुरू किया और फिर वो अचानक से बोली कि भोसड़ी के मैंने तुझे पहले ही बोला ना चूसना, चाटना मत फिर भी तू क्यों मेरी चूत को चूस रहा है? दोस्तों में तो बस उसको तड़पाना चाहता था, इसलिए में जानबूझ कर यह सब उसके साथ कर रहा था और अब में उसकी चूत को फैलाकर उसके दाने को जीभ से कुरेदने लगा था, जिसकी वजह से वो अब और भी ज्यादा तपड़ने लगी थी और वो मेरा सर पकड़कर ज़ोर से अपनी चूत पर दबाने लगी थी। फिर मैंने उसकी चूत को ऊपर से नीचे तक अपनी जीभ से बहुत अच्छी तरह से चाटा और एक बार फिर से चूसना शुरू कर दिया, जिसकी वजह से वो जोश में आकर सिसकियाँ लेने लगी थी और अपने हाथ से खुद ही अपने बूब्स को दबाने लगी थी, वो अब तक बहुत गरम हो गई थी। फिर मैंने सही मौका देखकर तुरंत अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डाल दिया और फिर धीरे धीरे ऊँगली को चूत के अंदर बाहर करने लगा और उसके साथ साथ में उसकी चूत को भी चूस रहा था और जोश में आकर वो अपनी कमर को हिला हिलाकर उंगली को और भी अंदर लेने लगी थी। अब में अपनी पूरी जीभ को अंदर तक घुसाकर चूत को चाटने चूसने लगा था, वो अब और भी जोश में आकर मुझसे बोलने लगी कि हाँ चूसो अमन और ज़ोर से चूसो आह्ह्ह्हह्ह्हह मेरी चूत का आज तुम पूरा पानी निकल दो उफ्फ्फ्फ्फ्फ स्ईईईईईई हाँ पी जाओ तुम आज मेरी चूत को आईईईईई।

दोस्तों करीब 15 मिनट मेरे चूसने के बाद वो झड़ गई और उसकी चूत से निकला वो गरम नमकीन पानी में चाट गया, वो मुझे चेहरे से बहुत संतुष्ट लग रही थी, लेकिन फिर मेरे कुछ बोलने से पहले उसने मेरी पेंट को खोल दिया और फिर उसने मेरे लंड को बाहर निकालकर देखा और अब वो बहुत खुश होकर मुझसे बोली कि तुम्हारा लंड तो बड़ा ही मस्त है, यह करीब 7 इंच का है। फिर तुरंत मैंने उससे बोला कि हाँ अब तुम इसको भी शांत कर दो, तो उसने मेरे मुहं से यह बात सुनकर झट से मेरा लंड अपने मुहं में लिया और चूसने लगी। दोस्तों उसने वाह क्या मस्त लंड चूसा। करीब 15 मिनट तक लंड चूसने के बाद मैंने उसको लेटा दिया और लंड को चूत के मुहं पर घिसने लगा, जिसकी वजह से वो सिसकियाँ लेने लगी और वो मुझसे बोली कि उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्हह्ह तुम यह क्या कर रहे हो? प्लीज़ तुम इसे मेरी चूत के अंदर मत डालना, तुमने मुझसे यह सब ना करने का वादा किया था।

फिर मैंने उससे कह दिया कि हाँ ठीक है, जब तक तुम मुझसे नहीं कहोगी में अपना लंड तुम्हारी चूत के अंदर नहीं डालूँगा, लेकिन बस मुझे ऊपर ऊपर ही घिसने दो। फिर वो मेरी यह बात मान गयी और वो खुद मेरा लंड अपने एक हाथ से पकड़कर अपनी चूत के मुहं के ऊपर घिसने लगी उसकी चूत अब तक बहुत गरम हो गयी थी और वो पानी से पूरी गीली भी थी, जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी चूत पर बड़ी आसानी से फिसल रहा था और अब वो ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को अपनी चूत पर रगड़ रही थी और ऊपर नीचे करते करते लंड कई बार उसके छेद में अटक भी जाता। फिर वो उसको अपनी चूत के दाने पर भी रगड़ती रही, लेकिन कुछ देर यह सब करने के बाद अचानक से उसने मेरे लंड को अपनी चूत के छेद पर रख दिया और थोड़ा सा धक्का देते हुए लंड का टोपा अंदर दबाया और फिर वो मुझसे बोली कि प्लीज अमन चोदो मुझे। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ प्लीज थोड़ा जल्दी करो आह्ह्ह्ह। दोस्तों में तो कब से इस काम को करने के इंतज़ार में था फिर मैंने अब उसकी तरफ से हाँ का जवाब सुनते ही पूरी तरह से जोश में आकर एक ही झटके में अपना पूरा का पूरा लंड उसकी प्यासी चूत के अंदर डाल दिया, वो हल्का सा चीखी, लेकिन उसने अपनी आवाज़ पर कंट्रोल कर लिया था और फिर मैंने धनाधन अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू कर दिया था। में उस समय बहुत जोश में था क्योंकि मैंने बहुत देर तक इंतजार किया था और अब वो मुझसे चुदते हुई बोली कि वाह अमन मज़ा आ गया उफ्फ्फ्फ़ तुमने मेरी चूत को बहुत अच्छा चूसा आह्ह और अब शायद तुम मेरी चुदाई भी बहुत अच्छी करोगे। मैंने आज करीब 7 महीने बाद किसी का लंड अपनी चूत के अंदर लिया है आह्ह्ह्हह्ह मेरे बॉयफ्रेंड का लंड तुम्हारे लंड से बहुत छोटा था। तुम ने तो आज मुझे वो मज़ा दिला दिया है जिसके लिए में अब तक तरस रही थी उफ्फ् हाँ चोदो मुझे आहह्ह्ह्ह और ज़ोर से चोदो। दोस्तों अब चुदाई के दौरान उसकी चूत बहुत पानी छोड़ रही थी, जिसकी वजह से मेरा लंड बहुत आराम से अंदर बाहर फिसलता हुआ जा रहा था। फिर मैंने महसूस किया कि उसकी चूत हल्की सी टाईट थी, लेकिन चूसने से वो पानी पानी हो गई थी, जिसकी वजह से लंड अब बहुत आसानी से अंदर बाहर हो रहा था।

फिर करीब दस मिनट की चुदाई के बाद वो झड़ गयी और अब मेरा भी पानी निकलने वाला था। मैंने उससे पूछा कि में अब अपना वीर्य कहाँ निकालूं? तो उसने मुझसे कहा कि तुम मुझे पीछे से डॉगी स्टाईल में अपना लंड डालकर मुझे चोदो और मेरी गांड पर अपना पानी निकाल दो। फिर मैंने उसके कहने पर तुरंत उसको पलटकर घोड़ी बना दिया और फिर में उसको पीछे से लंड डालकर चोदने लगा। करीब तीन चार मिनट के बाद मेरा वीर्य निकल गया तो मैंने तुरंत अपना लंड बाहर खींचकर उसकी गांड के ऊपर वीर्य को निकाल दिया और फिर गांड पर लंड को रगड़ने लगा। फिर वो मुझसे बोली कि वाह मज़ा आ गया, तुमने तो मुझे आज बहुत सालों बाद पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया है। तुमने मुझे आज चोदकर बहुत खुश कर दिया है, में मानती हूँ कि तुम्हे चुदाई करने का बहुत अच्छा अनुभव है, तुमने जो सुख आज मुझे दिया है में उसके लिए बहुत समय से तरस रही थी। तुम्हारे साथ चुदाई करके मुझे आज मज़ा आ गया वाहहह तुम बहुत अच्छे हो और आज के बाद से तुम मुझे जैसे चाहो जब चाहो चोद सकते हो। आज से मेरा यह जिस्म तुम्हारे लंड का गुलाम बनकर रह गया है। दोस्त उस दिन के बाद लगभग मैंने तीन महीने में उसको करीब 8 बार अलग अलग तरह से हर एक स्टाइल में चोदा और हर बार वो भी मुझे कुछ ज्यादा ही मज़ा देती थी और अब हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत जमकर चुदाई करते है और बहुत मज़े करते है ।।

Loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


sex hindi story comsex com hindihindi sex khaneyahindisex storsex sex story hindihinde sexy kahanihindi sex story sexsexy stiorysexy stoies in hindihinde sax storyhinndi sex storieshindi sex historychudai kahaniya hindisexy story hindi menew hindi sexi storyhondi sexy storychudai kahaniya hindisexy stroies in hindisex st hindinew sex kahanividhwa maa ko chodasexy story hindi mesexi hindi storyshindi sx kahanihhindi sexsexstori hindisax hinde storehindi sex strioeshindi sax storyhindi sax storyhindi saxy story mp3 downloadsexy kahania in hindisaxy hind storyankita ko chodaindian sex stories in hindi fontshind sexi storywww free hindi sex storysex com hindihindi audio sex kahaniahindi sexstoreissaxy story hindi menew hindi sexy storyfree hindi sex story audiohindi sexy stroiessex hindi sexy storyindiansexstories conhindi sexy storysexy story in hindi langaugehindi sexy khanibhabhi ko neend ki goli dekar chodabhai ko chodna sikhayasexy adult story in hindiindian sex stories in hindi fonthindi sexy storieahindi sex kahinisexi storeysex stores hindesexy free hindi storynew hindi sexy story comsexy sex story hindisexe store hindesexy stry in hindihindi sex astorividhwa maa ko chodachut fadne ki kahanisexy stoeyhindi katha sexsex sexy kahanihindi sex stohindi sexy storuessax store hindehindi sexy atorychudai story audio in hindihindi sex story hindi sex storysex ki hindi kahanihindi sex story in voicesax hinde storeankita ko chodahindi sexy storysexy story hinfiindian sex stories in hindi fontsex store hendesexi hindi kathabhabhi ko neend ki goli dekar chodasexi hinde storykamuka storysexi stroyhidi sexi storyhendhi sexsexsi stori in hindisexy srory in hindisex story in hindi languagewww new hindi sexy story comsexy story read in hindi