मेरी आंटी की चूत चुदाई

0
Loading...

प्रेषक : राज …

हैल्लो मेरे प्यारे दोस्तों, में भगवान से प्राथना और उम्मीद करता हूँ कि आप सभी ठीक होंगे। दोस्तों यह बात उन दिनों की है, जब मेरी मौसी सहारनपुर से आई थी और वो मेरी मम्मी से उम्र में छोटी थी मेरा मतलब उनकी उम्र 35 साल के करीब थी और उनके तीन बच्चे भी थे।

अब उनके बच्चे भी उनके साथ हमारे घर पर आए, उनकी शादी 16 साल पहले हुई थी और उनके पति एक सरकारी नौकरी करते थे और मेरी मौसी जिनका नाम सपना है, वो अपने बदन का बहुत ध्यान रखती इसलिए वो इतनी उम्र होने के बाद भी किसी कुंवारी लड़की से कम नहीं दिखती थी। एक तो उनका रंग बहुत गोरा था और उनके गाल भी हमेशा गुलाबी रहते थे, उनके बूब्स बहुत ज़्यादा बड़े नहीं थे, लेकिन हाँ उनकी गांड बहुत ही ज़बरदस्त थी और जब वो चलती तब मेरा ध्यान अक्सर उनकी गांड पर अटक जाता और वो हमेशा साड़ी ही पहना करती थी। दोस्तों कसम से साड़ी में भी वो बिल्कुल हॉट सेक्सी मस्त क़यामत लगती थी और उनका साड़ी बाँधने का तरीका भी नया था। दोस्तों वो हमेशा अपनी नाभि के बहुत नीचे अपनी साड़ी को बाँधती थी, जिसकी वजह से मुझे उनकी एकदम गोल गहरी बड़े आकर की नाभि अपनी तरफ आकर्षित किया करती थी। फिर में अपनी चकित नजर से उनको हमेशा घूर घूरकर देखा करता था और वो हमेशा आधी बाह का गहरे गले का ब्लाउज पहना करती जिसकी वजह से जब भी वो किसी भी काम के लिए नीचे झुकती, तब उनके दूध से गोरे बूब्स का वो मस्त द्रश्य में बहुत आराम से देख लिया करता था।

दोस्तों अपनी मम्मी और बुआ यहाँ तक की कई बार बहन की चुदाई करने के बाद भी में अब बहुत ही बेकाबू हो जाता था और मेरी कहानियों को लगातार पढ़ने वाले लोग तो जानते ही होंगे कि ज्यादा उम्र की औरते शुरू से मेरी बहुत बड़ी कमज़ोरी रही है। एक रात को में अपनी मम्मी की चुदाई कर रहा था, मेरा लंड उनकी चूत में बहुत आराम से अंदर बाहर हो रहा था और हम दोनों बहुत जोश में चुदाई का पूरा पूरा मज़ा ले रहे थे। तभी अचानक से मुझे पता नहीं क्या हुआ मुझे चुदाई करते समय भी अपनी मौसी नजर आने लगी, क्योंकि में अब बहुत दिनों से उठते बैठते अपनी मौसी पर ही अपनी नजर रखे हुए था और उस वजह से में उनकी तरफ बहुत आकर्षित हो चुका था। अब मैंने उसी समय धक्के देते हुए अपनी माँ के सामने मेरी मौसी के गोरे सेक्सी बदन की तारीफ करना शुरू दिया। फिर मेरे मुहं से वो सभी कुछ सुनकर कुछ देर बाद मेरी मम्मी ने मुझसे कहा कि साले मादरचोद कुत्ते मुझे तो पहले से ही पता चल गया था कि तू मेरी बहन को बिना चोदे नहीं छोड़ेगा, तू उसकी चुदाई एक बार जरुर करके रहेगा क्योंकि में तुझे कई बार उसके बूब्स को घूर घूरकर झांकते हुए पहले भी देख चुकी हूँ और तू जब भी उसके कूल्हों की तरफ देखता था, तब में तुरंत समझ जाती थी कि तू साला बहनचोद मेरी बहन की चुदाई के सपने देखकर खुश हो रहा है।

अब तू अपनी मौसी की गांड भी जरुर मारेगा और वो छिनाल भी हमेशा ब्लाउज भी ऐसा ही पहना करती है कि उसके पूरे बूब्स बाहर की तरफ लटके रहते है वो रंडी भी हमेशा अपने ब्लाउज के ऊपर के हुक को भी कभी नहीं लगाती है, मुझे पता नहीं है कि उसके मन में ऐसा क्या चल रहा है? और उसकी वजह से कई बार तो तेरे पिता जी भी मुझसे उसको सही से कपड़े पहनाने को कह चुके है। एक दिन वो उसके झूलते हुए बूब्स को देखकर मुझसे कहने लगे कि तुम समझा लो मेरी इस साली को वरना तुम बाद में मुझसे ना कहना कि मैंने उसके बूब्स को दबा दिया या उसकी निप्पल को मैंने चूस लिया और तुमने उसको नहीं समझाया तो हो सकता है कि में इससे ज्यादा आगे बढ़कर कभी उसकी जबरदस्ती चुदाई भी कर दूँ। अब में यह सभी बातें तुम बड़ी बहन हो इसलिए में तुमसे कह रहा हूँ, वरना आज वो तुम्हारे सामने मेरा लंड चूसती हुई तुम्हे नजर आती और फिर में हमेशा उनकी उस बात को सुनकर हंसकर मजाक में टाल देती थी। अब आज तू भी मुझसे अपनी मौसी की चुदाई करने की बात कह रहा है इसका मतलब साफ यह है कि मेरी बहन में भी ज्यादा चुदाई का जोश आ गया और वैसे साला तू भी बहुत बड़ा हरामी हो गया है इसलिए तू आज मुझसे मेरी बहन की तारीफ कर रहा है इसका मतलब साफ है कि तू उसकी चूत को पाना चाहता है।

दोस्तों आप सभी लोग अच्छी तरह से मेरी पिछली कहानियों को पढ़कर जानते ही होंगे कि मेरी मम्मी को चुदाई करवाते समय गालियों से बात करना बहुत अच्छा लगता है और तभी तो में भी इतनी देर से अपनी मम्मी की उस बकबक को चुपचाप सुने जा रहा था और फिर में उनके बड़े बड़े रुई जैसे बूब्स को दबाते हुए बोला कि तो साली उसमे नुकसान ही क्या है? अगर तू अपनी बहन को भी मेरा यह लंड खिला देगी तो उसका भी थोड़ा सा भला हो जाएगा और मेरा भी मज़ा हो जाएगा। फिर उसको भी तो मेरे साथ चुदाई का असली मज़ा आ जाएगा, जब तुझे मज़ा आता है तब भी तो यह बातें सोचा कर और वैसे भी वो तो तुझसे उम्र में छोटी है और मेरे मौसा जी भी तो हमेशा अपने काम की वजह से बाहर ही ज़्यादा रहते है इसलिए उसकी चूत भी हमेशा चुदाई के लिए प्यासी ही रहती होगी। फिर कसम से जब मेरा लंड उसकी टाइट चूत में पहली बार जाएगा, तब हम दोनों को बहुत मज़ा आएगा हमारा मन तुझे दिल से बहुत दुआ देगा, मम्मी प्लीज एक बार उसको मुझसे चुदवा दो ना। अब मम्मी ने कुछ देर सोचकर मुझसे कहा कि अच्छा अच्छा चल ठीक है, अभी तो तू मेरी मन लगाकर चुदाई कर में तुझे बाद में कुछ सोचकर बताती हूँ कि क्या और कैसे करेगा? तू मुझे अब सोचने का मौका दे।

फिर उसके बाद मैंने अपनी मम्मी की तरफ से हाँ का जवाब सुनकर मन ही मन बहुत खुश होकर उनकी चूत को चाटकर उनकी चूत में बहुत ही जोरदार ढंग से अपना पूरा 6 का लंड डालकर बहुत ही बेरहमी से उसको चोदा। दोस्तों उस दिन मैंने अपनी मम्मी को चोदते समय महसूस किया कि थोड़ी ही देर के बाद मेरी मम्मी की चूत ने अपना पानी छोड़ दिया, जिसकी वजह से उनका जोश अब धीरे धीरे हल्का पड़ने लगा, लेकिन में उस समय बहुत जोश में था इसलिए मैंने उनको एक बार पलटकर उनकी गांड में अपना लंड डालकर जोरदार धक्के देकर गांड मारी जिसकी वजह से मेरी माँ बहुत ही ज्यादा थक चुकी थी और फिर हम दोनों ऐसे ही सो गये। फिर दूसरे दिन जब में बाथरूम में नहा रहा था, तब मैंने अपनी छिनाल मम्मी की आवाज़ सुनी और वो अपनी बहन सपना मतलब की मेरी हॉट सेक्सी मौसी से कह रही थी कि क्या बात है? सपना आज तुम मुझे कुछ ज्यादा उदास सी लग रही हो क्यों क्या हुआ तुम्हे? तब मौसी ने कहा कि कुछ नहीं दीदी बस में थोड़ा सा थक गयी हूँ इसलिए आपको ऐसा लग रहा होगा। अब मम्मी ने कहा कि नहीं तुम्हारे मन में कुछ तो बात है या तो तुम मुझे वो बात बताना नहीं चाहती या फिर तुम मुझसे वो बात कहने से डर रही हो, प्लीज तुम मुझे बताओ में तुम्हारी पूरी मदद करने की कोशिश करूँगी?

दोस्तों तब तक में भी बाथरूम से बाहर निकल आया था और मौसी कुछ कहने ही जा रही थी, लेकिन वो मुझे अपने पास देखकर एक बार फिर से चुप हो गयी और उस बात को में समझते हुए सीधा अपने कमरे में चला गया। अब मैंने नाटक करते हुए अपने कमरे का दरवाजा भी अंदर से बंद करके मैंने अपने दोनों कान इधर ही लगा दिए। फिर मौसी ने थोड़ी हिम्मत करते हुए बोलना शुरू किया वो कहने लगी कि, में आपको क्या बताउं दीदी? आजकल मेरे जीवन में बहुत समस्या है उनको लेकर में थोड़ा सा चिंतित रहने लगी हूँ। अब माँ ने उसको कहा कि तुम मुझे पूरी तरह से खुलकर बताओ कि वो क्या बात है? तब जाकर में तुम्हारी उन सभी समस्याओं को दूर कर सकती हूँ वरना मुझे कैसे पता चलेगा? और वैसे भी में तुम्हारी बड़ी बहन हूँ मुझसे क्या छुपाना? अब मौसी ने कुछ देर सोचते हुए कहा कि हाँ दीदी आप कहती तो एकदम सही हो कि आप मेरी बड़ी बहन हो में आपको ही नहीं बताउंगी तो फिर किससे अपनी बात कहूँ? में बहुत दिनों से आपको बताना चाहती थी, लेकिन में ना जाने क्यों ना कह सकी आज आपने मुझे वो बात कहने की हिम्मत दिला दी है।

अब आप वो सभी बातें विस्तार से सुनिए और मुझे इसका समाधान भी जरुर बताए, दीदी आजकल रिंकू के पापा मुझ पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहे है और जब की हमारी शादी के बाद से अभी चार साल पहले तक तो वो मेरे साथ हर रात ही चिपककर सोते थे और हमारे बीच बहुत बार वो सब काम हुआ करता था जो एक पति और पत्नी के बीच में होना एक साधारण काम है। दीदी आप मुझसे उम्र में बड़ी और ज्यादा समझदार भी हो इसलिए में उम्मीद करती हूँ कि आप मेरे कहने का सही मतलब समझ चुकी हो और अब आप ही मुझे बताए में क्या करूं कहाँ जाऊं? अब माँ ने उनसे मजाक करते हुए कहा कि अच्छा तो क्या तुम दोनों के ऐसे ही खाली सोने से ही तीन बच्चे पैदा हो गये? मम्मी की वो बात को सुनकर मौसी को भी हंसी आ गयी और मुझे भी अपनी उस रंडी छिनाल माँ की बात को सुनकर उस पर बहुत हंसी आ गई। फिर माँ ने मौसी से कहा कि में तेरी पूरी समस्या को बहुत अच्छी तरह से समझ चुकी हूँ, तू मुझसे यही बात कहना चाहती है ना की अब आनंद तेरी ठीक तरह से चुदाई नहीं करता उसने तुझे पहले के कुछ सालो तक बहुत जमकर चोदा तुझे वो सारे चुदाई के मज़े दिए, लेकिन अब मेरा मानना है कि इस छोटी सी समस्या में तुझे इतना परेशान होने की कोई भी जरूरत नहीं है।

अब तू थोड़ा दिमाग से सोच वो भी तो तुम सभी के लिए ही इतना भाग भागकर पैसा कमा रहा है ना। अब तू थोड़ा सा सोच कि वो सारा वक़्त ही तेरी चूत की चुदाई के चक्कर में खराब तो नहीं कर सकता ना उसको और दूसरे भी बहुत सारे काम होते होंगे? अब मौसी ने कहा कि हाँ में मानती हूँ कि आप एकदम सही बोल रही हो, लेकिन दीदी अब तो उनको मेरे साथ संभोग करे पूरा एक सप्ताह भी हो जाता है। फिर मम्मी ने मौसी के मुहं से उस बात को सुनकर उनसे पूछा कि संभोग वो क्या होता है? यह किस चीज़ का नाम है? अरे मेरी नादान बन्नो उसको चुदाई कहते है और अब तेरी चूत से पूरे तीन तीन बच्चे बाहर आने के बाद भी तू तो ऐसे शरमाती है जैसे तू अब भी एक कुँवारी कली है। अब चल कोई बात नहीं आज में तेरी चूत की इस प्यास को जरुर बुझवा दूँगी मेरे पास उस बीमारी का भी सही इलाज है। फिर उसी समय मौसी ने मम्मी की बात को बीच में काटकर कहा कि मुझे भी पता है तुम मुझे क्या बताओगी? दीदी आप मुझसे यही बात कहना चाहती हो ना कि में अपनी योनी में कोई भी मोटी सी मोमबत्ती डालकर अपना काम करूं या कोई लंबा मोटा सा बेंगन अपनी चूत में करके में अपनी चूत को शांत कर लूँ?

अब मम्मी ने कहा कि पहले तो तू अपनी ज़बान को ठीक कर ले तू ऐसे हमेशा शब्द बोलती है जो मुझे समझ में ही नहीं आते। अब में वैसे तेरी चूत में मोमबत्ती डालने की बात नहीं कहूंगी बल्कि में आज तुझे पूरा 6 इंच का मोटा ताज़ा लंड खिलाउंगी जिसको खाकर तू अपने सभी दुःख भूल जाएगी और तुझे उसके साथ अपनी चूत को शांत करने में बहुत मज़ा आएगा। अब तू मुझे पूरी जिंदगी याद रखेगी। दोस्तों अपनी मम्मी के मुहं से में वो बात सुनकर बहुत खुश हो गया और में आज रात को अपनी मौसी की प्यासी चूत को मारने के बारे में सोचने लगा चुदाई के विचार मन ही मन बनाने लगा। फिर थोड़ी देर के बाद ही मैंने सुना कि मम्मी मेरी मौसी से कह रही थी कि देख सपना में तुझे जरुर चुदवा तो दूँगी, लेकिन मेरी एक शर्त है। अब मौसी पूछने लगी वो क्या दीदी? तब मम्मी ने उनसे कहा कि तुझे चूत और लंड की बातें हमेशा खुलकर करनी होंगी एकदम किसी बज़ारू रंडी की तरह और यह सभी लाजशरम को अब तुझे छोड़ना होगा। अब मौसी ने खुश होकर कहा कि हाँ ठीक है, लेकिन आप मेरी चुदाई किससे करवाओगी?

Loading...

मम्मी ने अपने उसी शरारती अंदाज में हंसते हुए कहा कि वो सब तुझे आज रात को अपने आप पता लग जाएगा और फिर जैसे तैसे वो दिन काटने के बाद दोस्तों बड़ी मुश्किल से वो रात आ गई जिसका मुझे कब से कितना इंतजार था? और फिर घर में सभी लोगों के सो जाने के बाद मम्मी मेरे कमरे में आ गई। अब भी में जागकर उनका इतंजार ही कर रहा था और वो अब मेरे होंठो पर चूमते हुए मुझसे कहने लगी कि चल मेरे चोदु राजा आज तू अपनी मौसी की चूत को भी चखकर उसका मज़ा भी लेकर देख, तूने आज तक मेरे जैसी माँ कभी नहीं देखी होगी कि वो खुद भी चुदवाए और साथ में अपनी बहन को भी चुदवाए। अब मैंने उनसे पूछा क्या मम्मी आपने मौसी को बता दिया कि उसकी चूत कौन मारेगा? वो बोली कि बेटा मैंने अभी उसको कुछ भी नहीं बताया और अब तू जब मेरे साथ चलेगा तब वो खुद ही तुझे देख लेगी और समझ जाएगी। फिर मैंने पूछा कि क्यों उसको बुरा तो नहीं लगेगा ना? तब मम्मी बोली अरे वो बुरा कैसे मानेगी उस साली की चूत में खुद ही चुदाई के कीड़े काट रहे है और जब कोई भी औरत एक बार अपनी चुदाई करवाने की बात अपने मन में सोच लेती है तब वो किसी से भी अपनी चुदाई करवा लेती है क्योंकि उसको अपनी चूत को किसी भी लंड से चुदवाकर शांत करना होता है किसी भी बात रिश्ते से उसको कोई भी मतलब नहीं होता।

दोस्तों इस तरह में कुछ देर बाद चुदाई का विचार बनाकर में अपनी मम्मी के साथ ही उनके कमरे में चला आया और अब मैंने देखा कि मौसी उस समय मम्मी के पलंग पर बैठी हुई थी और वो मुझे साथ में देखकर संभलकर बैठ गयी। अब मम्मी ने मौसी से कहा कि देख ले सपना तू अपने चोदु को आज यही तुम्हारी चूत को धक्के मारेगा यही है, जो तेरी चूत की सारी गरमी को बाहर निकाल देगा तुझे इसकी तरफ से कोई भी शिकायत बाकि नहीं रहेगी। फिर मेरी मम्मी की वो बातें सुनकर मेरी मौसी का चेहरा एकदम लाल हो गया और वो चकित होते हुए कहने लगी कि हाय राम दीदी आप मुझसे यह कैसी बात कर रही है? भला में अपने ही सगे भांजे के साथ कैसे संभोग कर सकती हूँ? यह सब गलत है मुझे नहीं करना ऐसा कोई भी काम। अब मेरी मम्मी ने मौसी से कहा कि तू फिर से मेरी शर्त भूल रही है अरे जब में खुद ही अपने सगे बेटे से अपनी चुदाई को करवा सकती हूँ और इसको अपनी आँखों के सामने ही अपनी बेटी की चूत भी मरवाने का मज़ा में खुद दिलवा चुकी हूँ, तब तुझे इसके साथ चुदाई करवाने में ऐसी क्या मुश्किल है?

अब मौसी मेरी माँ की वो पूरी बातें सुनकर एकदम चकित होकर कहने लगी, हाय राम दीदी आप कितनी निर्लज हो क्या आपको बिल्कुल भी शरम नहीं आई? यह ऐसा काम अपने बेटे के साथ करते हुए भाल क्या आपने एक बार भी नहीं सोचा, आपको शरम नहीं आई? और क्या अपने लड़के से भी कोई माँ अपनी चुदाई करवाती है? मम्मी ने उनसे पूछा तू बोल तुझे चुदवाना है या में तेरे ही सामने इससे चुदवाकर में अपनी चूत की खुजली मिटाना शुरू कर दूँ? साली बिना मतलब का नाटक करती है अरे तू यह भी तो देख कि घर की बात घर में ही रहेगी और तू कुछ दिनों बाद अपने ससुराल जाकर पता नहीं मजबूरी में आस पड़ोस के किस लड़के से अपनी चुदाई करवाने लगेगी जिसकी वजह से तुझे एड्स होने का ख़तरा भी हमेशा बना रहेगा। अब इसलिए में तुझसे कह रही हूँ कि तू एक बार राज से ही अपनी चुदाई करवा ले उस वजह से घर की बात घर में ही रहेगी और इसका लंड भी बहुत दमदार सुंदर है वो तुम्हे जैसे तुम चाहती हो वैसे ही बहुत मज़े देगा और तुम उसको अपना समझकर चुपचाप तैयार हो जाओ उसी में तुम्हारी भलाई है। अब मौसी ने कहा कि नहीं दीदी मुझे तो बहुत शरम आती है आपके कहने से ही मुझे अजीब सा महसूस हो रहा है करने पर क्या होगा?

अब मम्मी ने तुरंत मौसी की साड़ी के ऊपर से ही उनकी चूत के पास चिकोटी काटते हुए कहा कि रानी एक बार तू लंड ठसवा लेगी तो उसके बाद तू अपने ससुराल जाना भी भूल जाएगी चल अब जल्दी से साड़ी को खोल डाल। फिर यह बात कहकर मम्मी ने मौसी की साड़ी को पकड़कर खीचना शुरू किया जिसकी वजह से थोड़ी ही देर बाद मौसी सिर्फ़ ब्लाउज और पेटीकोट में आ गयी और अब मुझसे उनकी सुंदरता को देखकर बर्दाश्त करना बहुत मुश्किल हो रहा था। फिर मैंने अपनी मम्मी के बूब्स को दबाते हुए उनसे कहा मम्मी पहले एक बार आप मुझसे अपनी चुदाई करवालो और फिर उसके बाद हम मौसी को देख लेंगे। अब मम्मी कहने लगी कि नहीं साले अब तू पहले अपनी मौसी को ही चोदना तूने मेरी नाक में दम कर दिया है कि मौसी की चुदाई करनी है और अब जब उसको मैंने चुदाई के लिए तैयार कर लिया तो तू मुझसे कह रहा है कि पहले मेरी चुदाई करेगा। अब चल तू अपना लंड दिखा अपनी मौसी को और इतना कहते हुए उन्होंने एक झटका देते हुए मेरी लूँगी को पकड़कर खोल दिया। दोस्तों मैंने उस समय नीचे कुछ भी नहीं पहना था और मौसी को ब्लाउज और पेटीकोट में देखकर वैसे ही मेरा लंड फनफनाने लगा था।

अब मम्मी ने मेरे लंड को खीचते हुए मौसी की तरफ बढ़ाते हुए कहा कि यह लो ज़रा तुम हाथ में लेकर तो देख लो इस साले का कितना गरम रहता है और जैसे ही मौसी ने अपने नाज़ुक से हाथ डरते हुए मेरे लंड पर लगाए मुझे एक झटका सा लगा और मौसी ने तुरंत अपना हाथ पीछे हटा लिया। फिर मम्मी ने कहा कि पकड़ साली और जल्दी से इसको अपने मुहं में लेकर चूस और अब मम्मी ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और में तो पहले से ही नंगा था। फिर मैंने मौसी का ब्लाउज भी खोल दिया और मौसी मेरा लंड छोड़कर अपने बूब्स को छुपाने लगी और वो अपने दोनों हाथों को बूब्स पर रखकर बैठ गयी। अब मम्मी उनके पीछे की तरफ आई और वो मौसी के कान पर एक चुंबन लेते हुए कहने लगी मेरी जान अब तो शरमाना छोड़ दो, अब तो तुमने इसका लंड भी देख लिया है और शायद अब तुम्हारी चूत भी कामुक होने लगी होगी। दोस्तों अब मम्मी ने मौसी से यह बात कहते हुए उनके दोनों हाथों को एक झटका देते हुए हटा दिए और में झट से मौसी के बूब्स को दबाने लगा ऊऊह्ह्ह्ह वाह बहुत ही मस्त मज़ेदार थे उनके बूब्स जहाँ एक तरफ मेरी मम्मी के बूब्स अब बहुत लटक चुके थे वहीं अभी भी मौसी के बूब्स में बहुत ज्यादा कसाव बचा हुआ था और उनके निप्पल में भी वो गजब का आकार था, जिसको में अपनी चुटकियों से रगड़ रहा था।

अब मम्मी पीछे से मौसी की पीठ पर अपने बूब्स को रगड़ रही थी जिसकी वजह से जोश में आकर अब मौसी ऊओफफ्फ़ आआअहह की आवाज अपने मुहं से निकाल रही थी। फिर मैंने अपना एक हाथ सीधे उनके पेटीकोट के अंदर डाल दिया, जिसकी वजह से वो चीख पड़ी और मेरा हाथ दूर हटाने लगी, लेकिन में अब कहाँ मानने वाला था? मैंने जल्दी से उनका नाड़ा ढीला किया और पेटीकोट को भी उनके पैरों से खीचकर निकाल दिया, जिसकी वजह से अब मौसी बिल्कुल नंगी थी और उन्होंने अपने दोनों हाथों से अपनी चूत को छुपा लिया। फिर मम्मी ने अचानक पीछे से आकर मौसी के दोनों हाथों को पकड़ लिया और वो मुझसे कहने लगी कि राज चल अब तू अपनी मौसी को चूत चाटने का मज़ा दे और अपनी माँ के मुहं से इतना सुनकर में खुश होकर मौसी की बिना बाल वाली फूली हुई गुलाबी चूत को नजर भरकर देखने लगा। दोस्तों उसकी चूत के होंठ बहुत सुंदर लग रहे थे, में अपना हाथ मौसी की चूत पर फेरने लगा और मेरा हाथ अपनी चूत पर पाकर मौसी चहक पड़ी और उनके मुहं से आईईईईई इसस्स्स्स्स सिसकियाँ निकलने लगी। अब में उनकी चूत के होंठो को अपने हाथ से फैलाकर उसकी चूत का बहुत करीब से वो द्रश्य देखने लगा उसके अंदर का गुलाबी भाग बहुत ही सुंदर लग रहा था और उसमे से भीनी भीनी खुशबु भी आ रही थी।

फिर मैंने जैसे ही अपनी जीभ को बाहर निकालकर उसकी चूत पर रखा मौसी एकदम उछल पड़ी और वो आईईईई ऊऊईईईई राज उूउउफ्फ तुम यह क्या करते हो? दीदी मुझे बहुत गुदगुदी हो रही है और तभी मौसी ने अपने दोनों हाथों से मेरा सर पकड़ लिया और वो अपनी चूत पर मेरा मुहं दबाने लगी। फिर कुछ देर उनकी चूत को मस्त मज़े लेकर चाटने के बाद मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ को डाल दिया मेरी जीभ जैसे ही उसकी चूत में अंदर गई, वो एकदम से उछल पड़ी हाए ऊऊईईईई राम दीदी यह राज कितना गंदा है ऊफफफ्फ़ मुझे बहुत गुदगुदी हो रही है। अब मम्मी हंसते हुए कहने लगी कि अभी तो यह सिर्फ़ तेरी चूत को चूस और चाट ही रहा है जब तुझे यह अपने खड़े लंड के झूले पर बैठाकर तुझे झूला झुलाएगा तब तू देखना तुझे कितना मज़ा आएगा और इसके लंड में कितना दम है? और यह बात कहकर मम्मी ज़ोर ज़ोर से मौसी के बूब्स को मसलने लगी और उसके निप्पल को भी दबा रही थी। फिर वो कभी, कभी अपने होंठो से मौसी के निप्पल को भी दबा देती। अब तो मौसी को उसकी वजह से दुगना मज़ा आ रहा था, एक तरफ में अपनी जीभ को उनकी चूत में डाले जा रहा था और मम्मी उसके बूब्स को दबा रही थी।

दोस्तों अब तो मौसी के बदन में भी वो आग भड़क चुकी थी, वो पूरी तरह से जोश में आ चुकी थी इसलिए वो अब अपनी सारी लाज़ शरम को भुला चुकी थी और वो बिल्कुल बेशरम होते हुए कह रही थी आओ मेरे चोदु राजा आह्ह्ह्ह्ह तुम आज मेरी चूत को ऐसे ही चूस चूसकर पी जाओ मेरे पूरे माल को आहह उफफ्फ्फ्फ़ इस तरह का मज़ा तो मुझे तेरे मौसा जी ने भी कभी नहीं दिया आह्ह्ह और वो अपनी चूत को हवा में उचकाने लगी। अब में भी उनकी चूत की फाकों को पूरा फैलाकर उनके दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखकर फसाकर बहुत ही जोरदार तरीके से उसकी चूसाई कर रहा था और कह रहा था आअहह्ह्ह मेरी छिनाल मम्मी आज तो मुझे तेरी बहन की चूत को चाटने में देख बहुत मज़ा आ रहा है और इसको भी मैंने अपने जैसा बना दिया, आज तुम दोनों बहन एक रंडी बन गई हो मेरी छिनाल हो आज से तुम दोनों। अब मेरी मम्मी जोश में आकर मुझसे बोली अबे कुत्ते साले मदारचोद अब जल्दी से तू इसकी चूत का पानी निकाल इतनी देर से तू उसमे ही घुसा पड़ा है अभी तक तू इसका एक बार भी पानी नहीं निकाल सका क्या तू ऐसे ही लगा रहेगा?

अब मैंने कहा कि मम्मी अब इसकी चूत अभी इतनी ज्यादा चुदी ही नहीं है और आज पहली बार ही तो इस बैचारी की चूत की चूसाई हो रही है भला इतनी जल्दी फिर यह पानी कैसे छोड़ेगी? और अब तेरी चूत की बात अलग है तेरी तो चूत अब पूरी तरह से चुद चुदकर भोसड़ा बन चुकी है। दोस्तों अब मम्मी शायद तप चुकी थी और वो मेरे सर पर एक चपत मारते हुए कहने लगी कि अब तू मारना मेरी चूत, में इतनी ज़ोर से तेरी गांड पर लात मारूँगी मारूँगी कि तू अपनी चुद्दो मौसी की चूत में ही पूरा अंदर घुस जाएगा। फिर उसी समय मौसी कहने लगी कि साले चोदु तू बात तो एकदम सही कह रहा है, लेकिन तू थोड़ी सी ज्यादा कोशिश कर ले तू क्या बातें ही चोदेगा या अब मेरा पानी भी झाड़ेगे? तुझे शायद पता नहीं है, लेकिन तू देख में अब झड़ने वाली हूँ तू जल्दी जल्दी से अपनी जीभ को अंदर बाहर चला, मेरी चूत में अपनी जीभ को तू ज्यादा ज़ोर ज़ोर से धक्का मार। फिर वो इतना कहकर अपनी चूत को उचकाने लगी और उनके मुहं से ऊओफफफ्फ्फ़ आहहहह उूउइईईईईई प्लीज जल्दी करो ऊईईईई मेरे राजा वो आवाजे आने लगी।

अब उसी समय मेरी मौसी झड़ गयी और उनका ढेर सारा रस में बहुत ही चाव से पी गया और झड़ने के कुछ देर बाद मौसी अब धीरे धीरे ठंडी होकर अब एक तरफ बेड पर जाकर गिर गयी। दोस्तों वो बहुत ज़ोर ज़ोर से हाफ रही थी पूरा बदन पसीने से भीगा हुआ था। फिर उसके बाद मेरी मम्मी मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी, उनकी मेहनत और लगन की वजह से लंड दोबारा उठकर खड़ा हो गया और कुछ देर के बाद मैंने अपनी मम्मी की गांड में अपना लंड डाल दिया। अब मैंने उनकी गांड के मज़े लिए और मौसी को तो उस रात में मैंने चार बार बहुत मज़े लेकर चोदा ।।

Loading...

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


sexy stori in hindi fonthindi sexcy storieswww sex kahaniyahindisex storyssex hindi story downloadfree hindi sexstoryhindi sexy stories to readsexy story hindi msexy story hundisex stores hindi comsexy stoies hindihindisex storisex hinde khaneyakamuka storyhinde sex khaniahindi sex kahani hindi mebhai ko chodna sikhayasaxy storeyread hindi sex kahanividhwa maa ko chodahindi sex kahaniya in hindi fonthindi sex stories allhindi sexi storeissagi bahan ki chudainew hindi story sexyhindi sexy story hindi sexy storyhindi sexcy storieshindi sex story comhindi sex story in hindi languagehindi sexe storiwww indian sex stories cohindi katha sexhindi sex stories to readread hindi sex kahanisex stores hindi comwww sex storeysamdhi samdhan ki chudainanad ki chudaisexy adult hindi storyhindi sexi storiehindi sex historysaxy hindi storyssexstory hindhihindi sexy storestore hindi sexhindi sex storidshindi sexy stories to readhindi story saxall sex story hindiindian sex stpwww indian sex stories cohindi sexcy storiessexy free hindi storyhindi sex story in voicesexcy story hindisimran ki anokhi kahanihindi sex wwwsexy story read in hindisex com hindiread hindi sex storiessex hinde storehindi sec storyhindi sex kahinihinde sax storehindi sexy story hindi sexy storysex story in hidihindi sex story hindi sex storyhindi sex kahaniya in hindi fontnew hindi sexy storiehinde six storysexy story hindi comsexi hinde storysexstory hindhinew hindi sexy storysexy stiry in hindihindi sex kathakamukta comhindi sex kahinihindisex storiehindi sexy story in hindi languagesexy stry in hindiankita ko chodahindi sex astorifree sexy story hindihindi sexy storise